Railway Group D Exam Ki Taiyari Kaise Karen

Share With Friends or Family

रेलवे ग्रुप डी सामान्य परिचय

तो दोस्तों इस पोस्ट में आपको Railway Group D Exam Pariksha Ki Taiyari Kaise Karen ये जानने वाले है। साथ है रेलवे ग्रुप डी से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी आपको यहां दी जाएगी। तो चलिए शुरू करते हैं।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत में सरकारी नौकरी देने वाला सबसे बड़ा संगठन है। 16 अप्रैल 1853 को भारत में रेल का शुभारंभ हुआ और तब से ले कर अब तक इसमें आधुनिकरण और सुरक्षा सुविधाओं का संवर्धन निरंतर जारी है।

जब संगठन इतनी बड़ी है तो इसके रख रखाव व देखभाल करने के लिए अधिक कर्मचारियों कि आवश्यकता होती है। इस समय भारत में 20 रेलवे भर्ती बोर्ड तथा 17 क्षेत्रीय रेलवे जोन कार्यरत है। जिनके द्वारा समय समय पर अधिक मात्रा में भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किए जाते है।

रेलवे ग्रुप डी शैक्षणिक योग्यता

रेलवे ग्रुप डी में नियुक्ति के लिए केवल मैट्रिक पास होना ही जरूरी है। आय दिन इसमें कुछ ऐसे पदों को जोड़ा गया है जिसके लिए तकनीकी योग्यता की की अवश्यता पड़ जाती है। वैसे यदि आप भारत के किसी भी कोने से दसवीं पास है तो आप रेलवे ग्रुप डी के लिए फॉर्म भर सकते हैं।

रेलवे ग्रुप डी आयु सीमा

रेलवे ग्रुप डी में भर्ती होने के लिए आयु सीमा भी अहम भूमिका निभाती है। यदि आप तय आयु सीमा के मापदंड को पूरा नही करते हैं तो आप इस फॉर्म को नही भर पाएंगे। इस भर्ती के लिए आयु सीमा 18 साल से ले कर 28 साल तक मान्य है। बाकी जातिगत आरक्षण के आधार पर भी आयु सीमा में छूट दिए जाते हैं।

रेलवे ग्रुप डी फॉर्म शुल्क

रेलवे ग्रुप डी में फॉर्म भरने के लिए सामान्य व ओबीसी कैटेगरी वालों को 500 रू का शुल्क देना पड़ता है। बाकी अन्य जाति और महिला उममीदवारों को 250 रू का शुल्क लगता है। बाद में परीक्षा हो जाने के बात बैंक शुल्क काट कर फी रिफंड कर दिया जाता है। जो कि गरीब उम्मीवारों के लिए बहुत है अच्छी खबर है।

रेलवे ग्रुप डी में क्या काम करना पड़ता है.?

रेलवे ग्रुप डी में अलग अलग पद है और सबके कार्य भी अलग अलग होते हैं। यहां हम कुछ चुनिंदा पद के बारे में बता रहें हैं जिसमें ज्यादातर उम्मीवारों को चुना जाता है।

गैंगमैन/ट्रैकमैन – यह एक मह्वपूर्ण कार्य है जो कि मुख्यता फिल्ड वर्क है। इसमें रेल पटरियों के सही रख रखाव, भारी माल व औजारों का लाना ले जाना, चौकीदारी का कार्य करना, पटरी की सुरक्षा करना और सुपरवाइजर के द्वारा पटरी के रख रखाव तथा सुरक्षा करने में मदद करने का कार्य किया जाता है।

खलासी/हेल्पर – इस कार्य का प्रकार पद के नाम के अनुसार ही है। इसमें डीजल खलासी का कार्य, रेल इंजन के पार्ट पुर्जों कि साफ सफाई, तथा कार्य स्थल की साफ सफाई, भारी सामान उठाना तथा लाना और ले जाना तथा डीजल लोकोमोटिव शेड में विभिन्न कार्य करने में सुपरवाइजर तथा तकनीशियन के सहायक के रूप में कार्य करना।

खलासी (टी.एम. ओ.) – प्रमुख रूप से यह एक फिल्ड का कार्य है, जिसमें रेल पथ के मशीनीकृत अनुरक्षण, संचालन तथा सामाग्री व रेल पथ पर उपकरण लाने ले जाने से संबंधित अकुशल तथा अर्द्धकुशल प्रकृति के कार्य, चौकीदारी का कार्य, रेलवे ट्रैक की रक्षा करने तथा ट्रैक अनुरक्षण के कार्य करने में विभिन्न सुपरवाइजर तथा तकनीशियन के सहायक के रूप में कार्य शामिल है।

रेलवे ग्रुप डी चयन प्रक्रिया

  • ऑनलाइन परीक्षा
  • फिजिकल टेस्ट
  • मेडिकल

रेलवे में ग्रुप डी के पदों पर चयन लिखित परीक्षा तथा उसके बाद उम्मीवारों की शारीरिक दक्षता परीक्षण उसके बाद मेडिकल के आधार पर किया जाता है।

और जानकारी जल्द ही अपडेट किए जाएंगे Updated Soon

5/5 - (11 votes)

Share With Friends or Family

See also  SSC GD New Syllabus : देखिए क्या क्या बदल गया
close
error: Alert: Content selection is disabled!!